Poetry

तेरे बिना मैं?

“ये सर्दियों का मौसम, और बाहर हो रही हल्की-हल्की बर्फबारी; तेरी यादें दिलाये, मुझे बहुत सताये। बिन आँसू रुलाये, और फिर ये बताये; तेरे बिना मैं खाली सा हूँ।” “ये ढ़ाबे पर बिक रही कुल्हड़ Read more…

By reemaprabhatblogs, ago