Poetry

Paradoxical

Do not unto others That you wouldn’t like done to you The simplest spiritual fact Yet we need to damage one another          Thinking that our shine will show Paradoxical

By Mateo Gomez, ago
Poetry

।।हिंद।।

आज उन वीरों को याद करो उन देशभक्तों की पुकार सुनो शौर्य को अपने तुम जगाओ भारत को अपने तुम सजाओ रक्शक बनकर इस आज़ादी के अपने देश के गौरव को तुम बढाओ राष्ट्रगीत गाओ Read more…

By Sadah, ago
art

॥ औरत ॥

औरतों का दर्जा ऊँचा होता है औरतों का औधा ऊँचा होता है बिन औरतों के तो हमारा घर सूना सूना सा होता है। घर एक पूजा है जिसका आशीर्वाद वे हैं। घर एक कहानी है Read more…

By Sadah, ago