प्यार

मैं रेत बनूंगा, तुम दरिया बं जाना,
मुझे छू कर आगे चले जाना।
मैं रात बनूंगा, तुम उस रात की चांदनी बन जाना,
अपनी चांदनी से मुझे रोशन कर जाना,
मैं सूरज बनूंगा, तुम उस सूरज की किरणे ब बन जाना,
अपनी किरणे हमेशा के लिए मुझमें समा जाना,
मैं प्यार करूंगा, तुम उस प्यार की तस्वीर बन जाना,
प्यार अगर सच्चा लगे तो कभी तस्वीर से बाहर आना,
कुछ पल मेरे साथ भी बीता जाना
और इस दीवाने को उसके प्यार की सौगात दे जाना।


Pranav Sood

Writer who speaks his heart out. Want the readers to feel for my writing. Blogger @ bestofpoeticpranav.blogspot.in

Leave a Reply

Your email address will not be published.